Category: अली हसनैन

0

ग़म छुपाने के लिए

ग़म छुपाने के लिए दूर तलक जाते हैं, दिल के जज़्बात कई बार तो थक जाते हैं. रौशनी में ये ग़म-ए-हिज्र छुपाएं...